शानदार सेक्सी वीडियो

जबरदस्ती हॉट सेक्स

जबरदस्ती हॉट सेक्स, तब तक मैं हेमन्त के भारी भरकम चूतड़ सहलाता रहा. उसकी गांड में मक्खन लगाया और उसने मेरे लंड को चिकना किया. जब उसका लंड फ़िर कुछ उठने लगा तो वह उठा और सोफ़े की पीठ पकड़कर झुककर खड़ा हो गया. अजय ने एक घुट अंदर किया ..वो तिवारी से सच उगलवाना चाहता था और सच तभी बाहर आता जब तिवारी को लगता की उसकी बात का अजय पर सही असर हो रहा है …

अपनी गाँड खोल देता, मैं समझ लेता... फ़िर मैने उसको सीधा लिटाया और उसके घुटने मोड के उसकी गाँड सामने खुलवा दी और अपना लँड उसके छेद पर रखा! राज: देखो…मे तुमपे कोई उपकर नही कर रहा हू…ये तुम्हारा हक़ है…और ये सिर्फ़ तुम्हे ही नही सभी स्टाफ को दे रहा हू……….मेरे 4 शॉप्स है…और जिस तरह से तुम मॅनेज करती हो वो क़ाबिले-तारीफ है.

उसके पैर मेरे मुंह पर थे. अपने तलवे मेरे गालों और मुंह पर रगड़ता हुआ वह बोला. ले अब यार, जरा मन भर कर मेरे पैरों को चाट और चूस. मुंह में ले. मजा कर. मैं भी मन भर कर आराम से अपनी गांड से तेरे लंड को चोदता हूं. जबरदस्ती हॉट सेक्स मुझे इतना मजा आ रह था कि मेरी आंखें पथरा गई थीं. मेरी उत्तेजना देख कर हेमन्त का लंड मचलकर मेरी गांड में और गहरा घुस गया. आखिर उससे न रहा गया और वह मुझे वहीं सोफे पर पटक कर मेरे ऊपर चढ़ बैठा और

हिंदी सेक्सी शादी वाला

  1. अजय को लगा जैसे उसकी पूरी दुनिया ही खत्म हो गई …वो नीचे बैठ गया था और सर पकड़े हुए रो रहा था ,उसे विस्वास ही नही हो रहा था की उसके साथ ऐसा कुछ हुआ है ...वो बार बार चम्पा को याद कर रहा था उसने उसकी आंखों में देखा था ,उसके दिल की धड़कने सुनी थी वो गलत कैसे हो सकती थी ???
  2. अभी उसके शरीर से पसीना बह रहा था और कमरे में जल रहे छोटे से दिए की रोशनी में बलवीर का पूरा नंगा शरीर चमक रहा था,मोंगरा उसके चहरे को ही निहारे जा रही थी,क्या क्या नही किया बलवीर ने उसके लिए ,उसे तब सहारा दिया जब कोई अपना उसके साथ नही था,अगर वो नही होता तो ….तो शायद वो भी नही होती … ఎన్ టీవీ న్యూస్ లైవ్
  3. साक्षी जिसकी सुहागरात मन ही नहीं पाई थी क्योंकि वो मासिक धर्म से गुजर रही थी.. और उसके पति यानि जीजू मुझे चोदने के चक्कर में थे। मैं भी अपने आप को सम्भाल नहीं पा रही थी, बस दिल कर रहा था कि सब मिलकर मेरी तबीयत से चुदाई कर दें।तभी मुझे होश आया और अपने आप को सम्भाल कर बोली- छोड़ो मुझे!
  4. जबरदस्ती हॉट सेक्स...अनिता:कुच्छ नही बोली.....पर वो हल्की हल्की मुस्कुराने लगी......उसका ना बोलना राज ने हां समझा और उसे अपनी बाँहो मे ले लिया और फर्स पर आ गया.....अनिता ने भी उसे अपनी बाँहो मे ले लिया और उसके होंठो और गालो पर किस करने लगी..... चुप हराम खोर,,,,,,,,,,अभी चाट ठीक से,,,,,,,,,,अब तो तेरे मुंह में ही मुतुंगी,,,,,,,,,,,,,, पेशाब करने जा रही थी, तब क्यों रोकाआ था,,,,,,,,,,,,,?
  5. चाची जैसी सधी और एक्सपर्ट चुदैल के सामने उस बच्ची की क्या चलती. इतना झड़ी कि किलकारियां मारने लगी. बाद में तो असहनीय सुख से रोने ही लगी. चाची भी कच्ची रसीली चूत पाकर खुश थी. ऐसे चूसती रही कि जनम जनम की प्यासी हो. बीच में बहुत देर सिक्सटी नाइन भी हुआ. ये सुनकर बूढ़ा जोश में आ गया और ऐश को खींचकर अपने होंठ ऐश के लाल होंठों पर रख दिए, और जोरों से ऐश के होंठों को चूमने और चाटने लगा।

ப்ளூ பிச்சர் செக்ஸி

उसने रणधीर के लिंग को छोड़ दिया और उसके चहरे का भाव अचानक ही बदलने लगा ,वो दृढ़ हो चुका था आंखे जैसे अंगारे थी ..

दूसरे दिन सुबह सुबह रश्मि ब्रश कर रही थी.....राजेश सुबह सुबह कही चला गया था...और राज नहाने जा रहा था...कि तभी उसने रश्मि को टूथ-ब्रश करते हुए देखा...उसे सरारत सूझी...वो उसके पास जाते हुए कहा: संतोष : अरे दीदी आज कल के लोंडो का कोई भरोषा नहीं हम उन्हें बच्चा समझते है और वह हमें नंगी करके चोदने का सोचने लगते है।

जबरदस्ती हॉट सेक्स,चन्दू चाचा –तो ऐसा कर ये साड़ी खराब करने के बजाय अगर स्कर्ट ब्लाउज हो तो साड़ी उतार के स्कर्ट ब्लाउज पहन ले।

राजेश: मे समझ सकता हू….मे तुम्हे पूरा वक़्त नही देता हू…पर क्या करू काम ही ऐसा है…प्रॉजेक्ट वर्क है…टाइम-बॉंडेड रहता है…समय पर पूरा नही हुआ तो कंपनी को पेमेंट नही मिलेगी….और अगर पेमेंट नही मिली…तो मेरा भी पेमेंट नही मिलेगा…….क्या करू?

कमल इस कामकर्म को देख कर खुश हो रही थी. मैं बोला मज़ा आगया, तुम्हारी चूची चूस कर, ऐसा लग रहा था कि जैसे इसी से दूधनिकल रहा है.नई क्सक्सक्स हद

उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ ओउुुुुुुुुुउउ ऊऊऊऊओह इस्स्सआःाहहहहहहहहह ऊहोहोूहोो अहहहहह उूुुउउफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ इस्स्सआःाहहहहहहहहह राज भी खामोश होकर उसे चोद्ने लगा….इस बार लंड बाहर निकाल कर दुबारा डाल दिया…और उसे ज़ोर ज़ोर से चोद्ने लगा………इस तरह करीब 30 मीं की चुदाई के बाद दोनो झाड़ गये…और ज़ोर ज़ोर से साँस लेते हुए एक दूसरे की बाँहो मे समा गये और सो गये……………………………………………………………………………..

हेमन्त से मेरा परिचय पहली बार तब हुआ जब मैं शहर में कॉलेज में पढ़ने के लिये आया. होस्टल में जगह न होने से मैं एक घर ढूंढ रहा था. तब मैं सोलह वर्ष का किशोर था और फ़र्स्ट इयर में गया था. शहर में कोई भी पहचान का नहीं था, इसलिये एक होटल में रुका था.

रश्मि दोनो की बाते बड़े गौर से सुन रही थी…अपना सिर नीचे किए हुए सिर्फ़ ह्म्म मे जवाब देती थी……अब रश्मि, कमला और राज मे काफ़ी कुच्छ ओपन हो चुका था…अब झिझक सिर्फ़ नाम मात्र की थी.,जबरदस्ती हॉट सेक्स क्या छि कह रही हो मुझे कैसे पता चलेगा की कौन मोंगरा है और कौन चम्पा तुम दोनो ही तो एक जैसी दिखती हो तो क्या इसमें भी मेरा ही दोष है ..

News