देगलूर इलेक्टिव रेसुलत २०२१

ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ

ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ, कॅंटीन मे अपना पेट भरते हुए मुझे आराधना अपनी सहेलियो के साथ दिखी और ऑडिटोरियम मे जो मैने सोचा था , उसे करने के लिए मैने अपने दोस्तो को बाइ कहकर सीधे आराधना के पास पहुचा... गाँधी जी ने कहा है कि ,हेट दा सीन...नोट दा सिन्नर...और इस हिसाब से तुम्हे मुझसे नफ़रत नही करनी चाहिए और एक किस देकर गुडबाइ बोलना चाहिए...

अजीब है यार...कल्लू को अपनी तरफ आता देख मैने थोड़ी उँची आवाज़ मे कहा, ताकि कल्लू भी सुन सके...मैं बोलाकैसे-कैसे लौन्डो को चश्मा लग जाता है यार, साले अभी तक फर्स्ट एअर क्लियर नही है और चश्मा लगाकर पढ़ाकू की औलाद बनकर घूम रहा है.... और नही तो क्या....तूने क्या सोचा मैं तुझसे शादी करूँगा...अपने दिमाग़ का इलाज़ करवा और लाइफ मे आगे बढ़.वैसे भी डार्विन चाचा का एक सिद्धांत है कि 'इस दुनिया मे वही जीने के लायक है, जो सिचुयेशन के अकॉरडिंग खुद को ढाल ले...वरना तुझे जैसी लड़की की दुनिया तरह-तरह से लेगी...बी आ मर्द.गुड बाइ

ओह प्रभु! इस एक मुस्कान के लिए मैं अपना जीवन कुर्बान कर सकता हूँ! कितने सारे कष्ट सहे हैं बेचारी ने! हे मेरे प्रभु – प्लीज.. अब यह मुस्कान मेरी रश्मि से कभी मत छीनना! ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ हम्म... मतलब तुमको शिव-लिंग की याद आ रही है! अब उतना मोटा तो नहीं, लेकिन, इस समय मेरे ही लिंग की पूजा कर लो... मैंने उसको छेड़ा!

बीपी सेक्स मूवी

  1. मेरा भी कुच्छ यही इरादा है...डबल फक यू...अब फोन रख, नेक्स्ट पेग लेने का टाइम हो रेला है...साली बबूचड़ कही की,
  2. मैं आगे की कहानी भी नोन-स्टॉप सुनाए जाता यदि उसी वक़्त निशा का कॉल ना आया होता तो, इस वक़्त शाम के 5 बजे थे और बाहर का मौसम बादल के घिरे होने से एक दम बढ़िया था और मन को सुकून देने वाला था देहाती लेडीस सेक्सी वीडियो
  3. थॅंक्स फॉर दा सजेशन, लेकिन मुझे मेरा ही आइडिया ज़्यादा पसंद है...कुछ जुगाड़ जमा दो...उसकी तरफ देखते हुए मैने कहाऔर हां लड़की रशियन हो तो और भी ज़्यादा सुकून से नींद आएगी दिल से बोल रहा हूँ मॅम कि यू आर लुकिंग सो ब्यूटिफुल...अब तो जा रही हो ,कम से कम जाते-जाते तो थॅंक्स बोल जाओ....
  4. ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ...गुड आफ्टरनून सर...इरादा तो नही था लेकिन फिर भी मैं वरुण से बोला, क्या पता साला खुश हो जाए और मुझे बचा ले.... सब लाइन मे खड़े हो...किसी ने गला फाड़ कर कहा, और जब मेरी नज़र उस तरफ पड़ी तो देखा कि दो सीनियर्स हमे लाइन मे खड़े रहने के लिए कह रहे थे.....उनका कहना था कि हम सब लाइन मे खड़े हो गये....
  5. भानु : तुम्हारी जैसी लड़की भी तो बड़े नसीब से मिलती है। ये एहसास करा दो अपने जीजू को! प्यार करती हो, तो बता भी दो! क्या बिगड़ेगा भला! कुछ नही, तू इसे एक बार हवेली मे लेके आजा कसम से साल भर का असाइनमेंट एक बार मे इसे दे दूँगा, साली के क्या चुत होगी क्या दूध होंगे , यदि ये मुझसे चुद जाए तो कसम से मैं अपनी इंजिनियरिंग की पढ़ाई छोड़ दूं.....

सेक्सी विडियो मारवाड़ी

कौन है साला, जो अपुन को टच करिन्गा....अपनी चेयर से उठकर मैं अरुण के सामने खड़ा हुआ, तब मुझे पता चला कि मैं ढंग से खड़ा भी नही हो सकता...मेरा पूरा शरीर किसी पेंडुलम की तरह आगे पीछे हो रहा था....

एक बात बता अरमान, तू गाँधी को मानता है या शहीद भगत सिंग को....उसी रात, दारू की बोतल के ढक्कन को दाँत से खोलते हुए अरुण ने पुछा.... हुह...वरुण ने गुर्रा कर मुझे अहसास दिलाया कि मुझे बाहर जाकर निशा से बात करनी है,तभी मेरा खास दोस्त अरुण मेरे पास आया और मेरे कान मे बोलाक्या बेटा, बच्चा तो नही है उसके पेट मे....

ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ,कहर ढाने की धमकी देकर अरुण अपनी टीम के पास गया और उनसे कुच्छ बाते करने लगा.हम लोग 1-0 से लीड कर रहे थे,जिसे देखकर अरुण की गान्ड फटने लगी और उसने कल्लू से जाकर कहा कि यदि तुझे कोई मारे तो तू भी उसे मारना....

तो मैं कहाँ था...हां याद आया, मैं स्यूयिसाइड करने वाला था...मुझे जब से दिव्या ने ये मेस्सेज किया है तबसे दो-तीन हार्ट अटॅक आ चुके है...पानी पीता हूँ तो प्यास और लगती है, खाना ख़ाता हूँ तो भूख और बढ़ती है....जल्दी से बता,वरना बस मैं कूदने ही वाला हूँ....

निशा के ऑफलाइन होने से पहले मैने उसे अपना नंबर भी दे दिया और कहा कि जब उसके डॅड की तबीयत खराब हो जाए तो वो आंब्युलेन्स वालो को कॉल करे देन मौका मिलते ही मेरे नंबर पर कॉल कर दे और उसी कॉल के दौरान आगे क्या करना है,मैं उसे बताउन्गा....सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म

यदि सीडार कोई दूध पीता बच्चा नही है तो मैं भी कोई दूध पीता बच्चा नही हूँ, आइ आम अरमान, एक यांत्रिकी अभियंता(मेकॅनिकल इंजिनियर )

क..कुछ...मैं चुप चाप अपनी कुर्सी पर आकर बैठ गया, साला ये तो परेशानी हो गयी, दारू पीने के बाद तो मैं जैसे गूंगा ही हो गया था....बड़ी मुश्किल से मैने अरुण को समझाया कि मैं कुछ बोल नही पा रहा हूँ....

चल , हाथ-मूह धो ले...दारू पीते है...एक टेबल की तरफ वरुण ने इशारा किया, जहाँ एम.डी. की बोतल रखी हुई थी...,ಹಿಂದಿ ಬ್ಲೂ ಫಿಲಂ अब तो कोई उम्मीद ही नहीं बची है.. बस यंत्रवत रोज़ रोज़ राहत शिविर के दफ्तर पहुँच जाता हूँ। वहाँ लोगों से कई बार प्रार्थना भी करी है की मुझे भी सेवा का अवसर दें.. लेकिन वहाँ किसी के पास समय नहीं है। कई सारे लोग बचाए भी जा चुके हैं, लेकिन इन लोगों का कोई नामोनिशान ही नहीं है!

News