बीएफ ब्लू पिक्चर दिखाइए

नंगी नंगी दिखाओ

नंगी नंगी दिखाओ, अरे क्या उम्र, अभी तो हम जवान है, ओर तुम कहो तो अभी तुम्हे दिन में तारे दिखा दे जयसिंह ने मधु की चुत में अपने लंड को थोड़ा और घुसते हुए कहा, अब उसका लंड दोबारा तनकर तैयार हो चुका था आदम : हाहाहा चलो ठीक है अर्रे क्या हुआ (इतना में मौसी की कमर में जैसे लचक आ गयी वो कमर पकड़े दाँतों पे दाँत रखके बैठ गयी)

कांता: (वीना की सारी का पल्लू आगे से हटाते हुए) क्यों री. एक बार बाबू जी को अपने हुष्ण का जलवा तो दिखा दे. क्यों छुपा कर बैठी है . अपनी जवानी को. बोलो ना बाबू जी आप को पसंद हे. रज़ाई पे हेमा के चूतड़ से बहता वीर्य अब भी वहाँ लगा हुआ था...लेकिन अंजुम ने इस बात को नज़रअंदाज़ किया

ये शहद वाली ट्रिक उसने कई दीनो से सोच के रखी हुई थी किसी लड़की के लिए...लेकिन उसे करने का मौका ऐसे आएगा ये उसने सपने में भी नही सोचा था...वो भी अपनी सगी बहन के साथ नंगी नंगी दिखाओ समीर ने माँ के होंठो को मज़बूती से अपने होंठो की गिरफ़्त में ले लिया उसकी पीठ पे हाथ फेरते हुए कमर की तोंद को मसल रहा था...माँ बेटे के मुँह में जीब डाले हुए थी...बेटा उसकी जीब चूसे जा रहा था.....दोनो की आहें सॉफ सुनाई दे रही थी मुझे....फिर दोनो एकदुसरे को पागलो की तरह किस करने लगे

સેક્સ વીડીયો બીપી

  1. माँ है एक?.....आदम ने झूंट कहा था उसके ज़हन से अब तक सपने वाली बात गायब हो चुकी थी...अभी उसके दिल में माँ के सामने पकड़े जाने का ख़ौफ़ था
  2. माँ मुझसे से लिपट जाती है...और उसके बाल मेरे चेहरे पे बिखर जाते है...उसके बाद चुदाई फिर शुरू हो जाती है...और माँ हिच हिच के मुझसे चुदने लगती है मैं नीचे से कुल्हो में ताक़त भरे उसकी चुदाई करने लग जाता हूँ...माँ इस बीच मेरी पीठ पे नाख़ून गाढ़ने लगती है मुझे खुद से लिपटा लेती है... ग्रहों की खोज किसने की
  3. और दोनो कुछ ही धक्कों के बाद झड़ने लगी लकी का वीर्य गुरमीत को अपनी बच्चे दानी मे भरता हुआ महसूस हो रहा था …कुछ देर बाद दोनो शांत पड़ गये राज अपने रूम मे कपड़े चेंज करने लगा…..उसके दिमाग़ की नसे विशाल की बातों के बारे मे सोच- 2 कर फटने को थी…यूँ तो वो पहले भी अकेला पन महसूस करता था…पर जब डॉली और साहिल यहाँ से चले गये थे…राज अपने आप को और भी तन्हा महसूस करने लगा था. और आज विशाल की बातों ने राज के जख़्मो को हरा कर दिया था…..
  4. नंगी नंगी दिखाओ...और पूनम कहती -2 चुप हो गयी. और उसने शरमा कर अपने फेस पर तकिये को रख लिया. पूनम की बात सुन कर, रवि ने अपने मुँह को उसकी चूत से हटाया. और पूनम के हाथों से तकिया को खैंच कर, उसके फेस से हटा दिया. पूनम अपनी आँखे बंद किए हुए थी. उसके होंठो पर शरम से भरी मुस्कान थी. आदम जैसे घबरा गया और एका एक शॉक्ड हो गया सुधिया काकी ने उसके बारे में सबकुछ तबस्सुम दीदी को बता दिया था उफ्फ क्या उसे पता है कि उसने अपनी सग़ी मौसी और भाभी के साथ भी चुदाई का खेल खेला है...लेकिन तबस्सुम को कोई बुरा नही लग रहा था पर वो बेहद शरमा रही थी और मुस्कुराती हुई सर झुकाए हुई थी
  5. इतना कहकर वो भागकर किचन में गयी और फ्रिज खोलकर एक छोटी सी शहद की शीशी निकाल लाई...जयसिंह समझ गया की ये क्या करने वाली है... झड़ने के बाद मनिका की उत्तेजना थोड़ी शांत हुई, पर अपने पापा को पाने की हवस अब और भी ज्यादा उग्र हो चुकी थी,

जन्माष्टमी के बारे में

इमदाद : वो देख रहे है वो है जगह मोहन जो इस मंदिर का सबसे मैं इमारत कहलाती है इस प्राचीन मंदिर की सबसे बड़ी भूंमिका रखती है...ऐसे ही नही इस प्राचीन मंदिर को सेवेन वंडर्स ऑफ दा वर्ल्ड कहा जाता है....ये उनेस्को का हेरिटेज साइट है

अंजुम : ह्म तुझे पता है इसी हेमा के एक फ्रेंड का मुझे बार बार कॉल आने लगा था क्यूंकी हेमा तो मेरा नंबर उस लड़के को दे रखी थी जिससे उसको होटेल में मिलना था...वो तो हेमा मज़बूरी में ऐसे मर्दो से संबंध बनाती थी महेज़ पैसो के लिए पर उस लड़के ने मुझे ही पसंद कर लिया था याद है तू स्कूल में था वीना: अहह ओह बाबू जीई मेरी चूत्त्त फिरररर से पानी छोड़ने वाली है. ओह्ह्ह्ह औरर्र जोर्र्र से चोदो बाबू जीए अहह ओह ओह.

नंगी नंगी दिखाओ,अरे इतनी जल्दी मिल गयी, अगर कोई और बुक हो तो वो भी निकल लो वरना बार बार चढ़ना पड़ेगा जयसिंह की आंखों में वासना के दौरे तैरने लगे, और उसका लंड तो बस उसकी पैंट को फाड़कर बाहर आने को तैयार था

समीर : तभी तो तुझे मना किया ये जगह देख रहा है कितना सुनसान है? रेलवे स्टेशन पास में है ऐसे ही जगहो में कांड होते है बाबू

राज से रहा नही गया, और उसने आगे बढ़ कर निर्मला की पीठ पर अपनी बाहों को कस लिया. और अपने हाथों को उसके चुतड़ों की तरफ बढ़ाने लगा. निर्मला के बदन मे मस्ती की लहर दौड़ गयी. और वो राज से चिपक गयी.मोबाइल का आविष्कार कौन किया था

अचानक से सुमन को ऐसा लगा मानो उसकी चूत मे से आग निकलने लगी है….उसके बदन का सारा खून उसकी चूत की तरफ बढ़ने लगा….अब लंड की रगड़ चूत के दीवारों पर होती…तो सुमन मदहोशी से भरी आवाज़ मे सिसका उठती….राज को पता चल गया था, कि सुमन झड़ने के बेहद करीब है….और उसने अपने धक्कों की रफ़्तार को और बढ़ा दिया…. दोनों आज की रात के हसीन सपनो में गुम थे कि तभी अचानक जैसे उन पर गाज गिर पड़ी, उनके सपने चूर चूर हो गए, कनिका जो पास ही खड़ी थी वो उछलकर बोल पड़ी

माँ : हाहाहा तू भी ना काम में भी अपनी माँ के बारे में सोचता रहता है क्या होगा मुझे? काम में मैं व्यस्त थी वो क्या है ना कि लॉन में कपड़े डाल रही थी अब फिर फारिग होके खाना बनाउन्गी अब जा रही हूँ नहाने

डॉली: अच्छा ठीक है. मैं अपने कपड़े चेंज करती हूँ. तू जाकर मेरे लिए बढ़िया सी चाइ बना दे. और हां सुन रवि के लिए भी बना देना.,नंगी नंगी दिखाओ गुरमीत; ओह अहह उंहणंनणणन् उंघह अहह सीईईईईईईईई ओह लाकिईईईईईईईईईईई अहह मुझीए ईईई क्या हूऊ रहा हाईईईई ओह लुक्कययययययी मेन्न अहह ओह

News